Uttar Pradesh

रेत खनन माफिया ने दलित के इकलौते बेटे को जिंदा दफनाया, मौत


Updated On: 2017-06-23 08:04:59 रेत खनन माफिया ने दलित के इकलौते बेटे को जिंदा दफनाया, मौत

बहराइच। उत्तर प्रदेश में योगी राज में दलितों के खिलाफ हिंसा की घटनाएं थमने का नाम नहीं ले रही हैं। अब यहां के बहराइच में दिल दहला देने की घटना सामने आई है। यहां रेत खनन माफिया ने जेसीबी से दलित परिवार के बच्चे को रेत में जिंदा दफन कर दिया, जिससे उसकी मौत हो गई।

यह घटना सामने आने पर लोगों ने जमकर प्रदर्शन किया, जिसके बाद पुलिस ने शुक्ला व त्रिपाठी नाम के दो लोगों समेत सात के खिलाफ हत्या का केस दर्ज कर लिया है।

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, बौंडी थाना क्षेत्र के ग्राम भौरी निवासी चेतराम पुत्र जग्गू ने थाने में दी गई तहरीर में लिखा है कि गांव के कुछ लोगों की ओर से बिना सूचना, मीटिंग व प्रस्ताव के अवैध रूप से खनन का ठेका कर दिया गया। इसकी देखरेख निशंक त्रिपाठी व मनोज शुक्ला कर रहे थे। ठेकेदार जबरन उसका खेत खोद रहा था। रोकने पर उसे जान-माल की धमकी दी गई।

इसकी शिकायत उसने एसओ बौंडी, एसडीएम महसी, डीएम व एसपी बहराइच को डाक व आन लाइन भेजी। इसमें 24 जून को रेत खनन को लेकर आमरण अनशन व धरना प्रदर्शन करने की चेतावनी दी थी।

इस पर प्रशासन व पुलिस की ओर से कोई कार्रवाई नहीं की गई। उसी के प्रतिशोध में ठेकेदार ने मेरे इकलौते बेटे करन की दर्दनाक हत्या कर दी। चेतराम ने लिखा है प्रशासन की लापरवाही की वजह से उसके बेटे की हत्या हुई है।

हत्या की सूचना पाकर जब वह मौके पर पहुंचा और तलाश शुरू की तो बालू में दबी उसकी लाश मिली। उसी के साथ एक अन्य बालक निशाद पुत्र रहमत गया था जो अभी तक लापता है। चेतराम की तहरीर पर थाना बौंडी में निशंक त्रिपाठी व मनोज शुक्ला के खिलाफ अपराध संख्या 484/17 धारा 302, 506 आईपीसी व 3/5 एससीएसटी एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज कर लिया है।

सीओ महसी तनवीर अहमद ने बताया कि मृत बालक सूरज के पिता चेतराम की तहरीर पर मनोज शुक्ला, निशंक त्रिपाठी सहित सात लोगों के विरुद्ध हत्या व दलित उत्पीडऩ अधिनियम के तहत केस दर्ज किया गया है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद विवेचना में धाराएं बढ़ सकती हैं।

Comments

Leave a Reply


Advertisement