India

बहुजन नायक साहब कांशीराम को आज तक नहीं मिला भारत रत्न


Updated On: 2019-08-08 13:20:03 बहुजन नायक साहब कांशीराम को आज तक नहीं मिला भारत रत्न

पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी, आरएसएस प्रचारक रह चुके नानाजी देशमुख और असम के प्रसिद्ध गायक भूपेन हजारिका को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने वीरवार को देश के सर्वोच्च नागरिक सम्मान भारत रत्न से सम्मानित किया। नानाजी देशमुख और भूपेन हजारिका को ये सम्मान मरणोपरांत दिया गया। भूपेन हजारिका की तरफ से उनके पुत्र, तेज हजारिका को भारत रत्न सौंपा गया।

पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी को भारत रत्न दिए जाने के साथ ही एक बार फिर बहुजन नायक साहब कांशीराम को लेकर चर्चा शुरू हो गई। अपने आंदोलन के जरिये देश के करोड़ों शोषित बहुजन समाज के लोगों के जीवन को नई दिशा देने वाले साहब कांशीराम को आज तक भारत रत्न नहीं दिया गया।

बसपा और बहुजन समाज के लोगों की ओर से बार-बार मांग के बावजूद केंद्र में बनी सरकारों ने इस ओर ध्यान नहीं दिया।

पंजाब राज्य के ख्वासपुरा (रूपनगर) में जन्मे साहब कांशीराम आज किसी परिचय के मोहताज नहीं हैं। साहब कांशीराम ने शोषित बहुजन समाज के उत्थान के लिए अपना जीवन समर्पित कर दिया।

बसपा संस्थापक साहब कांशीराम ने भारतीय राजनीति को बदलकर रख दिया। उन्होंने दबे-कुचले बहुजन समाज को ना सिर्फ उनके अधिकारों के प्रति जागरूक किया, बल्कि उन्हें हुक्मरान बनने की राह भी दिखाई। वह आज देश के करोड़ों लोगों के प्रेरणा स्रोत हैं।

बहुजन समाज पार्टी अध्यक्ष कुमारी मायावती पिछले कई सालों से साहब कांशीराम को भारत रत्न दिए जाने की मांग कर रही हैं। कुमारी मायावती ने पिछले साल भी केंद्र की भाजपा सरकार से मांग की थी कि वह साहब कांशीराम को भारत रत्न अवॉर्ड दे।

उनका कहना है कि साहब कांशीराम ने अपनी जिंदगी गरीबों और सामाजिक तौर पर पिछड़े लोगों के उत्थान के लिए लगा दी। उन्होंने वंचित समाज के लोगों को अपने पैरों पर खड़ा करने के लिए आंदोलन किया। समाज को उनकी अनमोल देन है।

ऐसे में उन्हें भारत रत्न दिया जाना चाहिए। हालांकि केंद्र सरकार द्वारा पिछले सालों की तरह इस बार भी साहब कांशीराम को भारत रत्न अवॉर्ड नहीं दिया गया। ऐसे में बहुजन समाज के लोगों में भी निराशा देखने को मिल रही है।

Comments

Leave a Reply


Advertisement