India

देश की अदालतों में 25 साल से लंबित हैं 2 लाख से अधिक मामले


Updated On: 2019-08-05 14:56:56 देश की अदालतों में 25 साल से लंबित हैं 2 लाख से अधिक मामले

देश की अदालतों में लंबित पड़े मामले चिंता का विषय हैं। सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने भी इसे लेकर चिंता व्यक्त की है। बीते दिनों एक समारोह के दौरान उन्होंने कहा कि देश की अदालतों में दो लाख से अधिक मामले 25 साल से लंबित हैं, जबकि एक हजार से अधिक मामलों का निपटारा 50 साल बाद भी नहीं हो पाया है।

इस संबंध में द वायर की खबर के मुताबिक, जस्टिस गोगोई ने कहा कि बड़ी संख्या में मामलों के लंबित होने को लेकर न्यायपालिका को आलोचना का सामना करना पड़ता है। हालांकि इस देरी के लिए केवल न्यायपालिका ही पूरी तरह जिम्मेदार नहीं है, बल्कि न्याय प्रदान करने वाली व्यवस्था में कार्यपालिका की भी कुछ जिम्मेदारी बनती है।

उन्होंने कहा कि भारत में एक हजार से अधिक मामले 50 साल से और दो लाख से अधिक मामले 25 साल से लंबित हैं। करीब 90 लाख लंबित दीवानी मामलों में से 20 लाख से अधिक ऐेसे मामले हैं, जिनमें अभी तक सम्मन तक तामील नहीं हुआ है।

जस्टिस गोगोई ने कहा कि देश में दीवानी मामलों का यह लगभग 23 फीसदी है। फौजदारी मामलों में आंकड़ा और भी खराब है। फौजदारी के 2.10 करोड़ लंबित मामलों में से सम्मन के स्तर पर लंबित मामलों की संख्या एक करोड़ से अधिक है।

फौजदारी के कुल लंबित मामलों में से करीब 45 लाख छोटे-मोटे अपराधों के हैं।

Comments

Leave a Reply


Advertisement