India

दाभोलकर, पनसारे के बाद अब महिला पत्रकार गौरी लंकेश की हत्या


Updated On: 2017-09-05 19:17:50 दाभोलकर, पनसारे के बाद अब महिला पत्रकार गौरी लंकेश की हत्या

बेंगलुरु में वरिष्ठ पत्रकार गौरी लंकेश की हमलावरों ने मंगलवार को गोली मारकर हत्या कर दी। गौरी दक्षिणपंथियों की आलोचना को लेकर अक्सर चर्चा में रहती थीं।

गौरी लंकेश की हत्या की सोशल मीडिया पर भी काफी चर्चा हो रही है। वे अपनी हत्या से कुछ घंटे पहले तक ट्विटर पर एक्टिव थीं।

मीडिया रिपोट्र्स के मुताबिक, गौरी ने अपने ट्विटर हैंडल से फ़ेक न्यूज़ के अलावा कई ट्वीट्स को री-ट्वीट किया। खबर लिखे जाने से 9 घंटे पहले गौरी ने रोहिंग्या मुसलमानों पर एक स्टोरी का लिंक ट्वीट किया था।

बताया जा रहा है कि चार अज्ञात हमलावरों ने राज राजेश्वरी इलाके में स्थित गौरी के घर में घुसकर उन पर काफी करीब से फायरिंग की, जिससे मौके पर ही उनकी मौत हो गई।

वहीं इस हमले के बाद गौरी लंकेश के भाई ने गंभीर सवाल उठाए हैं. लंकेश के भाई इंद्रजीत ने इंडिया टुडे से बातचीत में कहा कि इस केस की जांच सीबीआई से करवाई जानी चाहिए।

इससे पहले वर्ष 2015 में कर्नाटक के धारवाड़ में इसी तरह के एक अन्य मामले में साहित्यकार एमएम कलबुर्गी की उनके घर पर ही हत्या कर दी गई थी। इस केस में दो लोगों पर कलबुर्गी की हत्या करने का आरोप लगा था।

2015 में ही सामाजिक कार्यकर्ता गोविंद पनसारे की भी गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। उनकी पत्नी को भी हमलावरों ने निशाना बनाया था। इस मामले में राइट विंग से जुड़े कुछ लोगों को गिरफ्तार किया गया था।

वहीं इससे 2 साल पहले 2013 में पुणे में नरेंद्र दाभोलकर को भी गोलियों से छलनी किया गया था। अंधविश्वास और कुप्रथाओं के खिलाफ आवाज उठाने वाले डॉ. दाभोलकर सनातन संस्था और अन्य दक्षिणपंथियों के निशाने पर रहते थे।

Comments

Leave a Reply


Advertisement