India

ईवीएम का विरोध करने वाले राज ठाकरे पर ईडी ने कसा शिकंजा


Updated On: 2019-08-19 11:11:03 ईवीएम का विरोध करने वाले राज ठाकरे पर ईडी ने कसा शिकंजा

महाराष्ट्र में होने जा रहे आगामी विधानसभा चुनाव में ईवीएम के इस्तेमाल का विरोध करने वाले महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (मनसे) प्रमुख राज ठाकरे पर ईडी ने शिकंजा कस दिया है। कोहिनूर सीटीएनएल के आईएल एंड एफएस कनेक्शन की जांच के सिलसिले में ईडी ने राज ठाकरे को 22 अगस्त को पूछताछ के लिए बुलाया है।

खबरों के मुताबिक, आईएल एंड एफएस ने कोहिनूर सीटीएनएल को लोन दिया था और इक्विटी इन्वेस्टमेंट भी किया था। सीटीएनएल ने लोन पेमेंट में डिफॉल्ट कर दिया। सीटीएनएल में राज ठाकरे भी पार्टनर थे। हालांकि, बाद में वे अपने शेयर बेचकर बाहर हो गए थे।

दूसरी ओर मनसे ने ईडी की कार्रवाई को बदले की राजनीति बताया है। पार्टी प्रवक्ता संदीप देशपांडे ने कहा कि इस साल लोकसभा चुनाव के दौरान राज ठाकरे की बातों का लोगों पर काफी असर हुआ था। महाराष्ट्र विधानसभा चुनावों से पहले इस चुनौती को रोकने के लिए भाजपा ईडी का इस्तेमाल कर रही है।

संदीप का कहना है कि कोहिनूर डील बहुत पुरानी है और राज ठाकरे काफी समय पहले इससे बाहर निकल चुके हैं। आश्चर्य है कि इतने दिनों बाद केंद्र ने जांच का नोटिस क्यों भेजा। देशपांडे ने आरोप लगाया कि ईडी को आवाज दबाने का हथियार बना लिया गया है।

उल्लेखनीय है कि बीते दिनों मनसे प्रमुख राज ठाकरे ने ईवीएम में गड़बड़ी की आशंका व्यक्त करते हुए इसका विरोध किया था। इस संबंध में वह चुनाव आयोग से भी मिले थे और मांग की थी कि महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव ईवीएम की बजाय बैलेट पेपर से करवाए जाएं।

उन्होंने ईवीएम के खिलाफ 21 अगस्त को महाराष्ट्र में बड़े स्तर पर विरोध प्रदर्शन करने का भी ऐलान किया था। इसी बीच ईडी ने उन्हें समन जारी करते हुए 22 अगस्त को पेश होने के लिए कहा है।

Comments

Leave a Reply


Advertisement