India

श्री गुरु रविदास मंदिर मामला : दिल्ली की सडक़ों पर जनसैलाब, मोदी सरकार पर बिफरे लोग


Updated On: 2019-08-21 10:14:07 श्री गुरु रविदास मंदिर मामला : दिल्ली की सडक़ों पर जनसैलाब, मोदी सरकार पर बिफरे लोग

दिल्ली की सडक़ों पर आज 21 अगस्त को बहुजनों का सैलाब उमड़ आया। तुगलकाबाद में श्री गुरु रविदास मंदिर तोड़े जाने को लेकर रामलीला मैदान लोगों से खचाखच भरा आया। वहीं, मैदान के बाहर सडक़ों पर भी भारी जनसैलाब दिखाई दिया।

इस दौरान जय भीम जय भारत, मोदी सरकार मुर्दाबाद, मंदिर वहीं बनाएंगे जैसे नारे गूंजते रहे। प्रदर्शन में विभिन्न संगठनों और संत समाज के साथ-साथ बसपा के कार्यकर्ता बड़ी गिनती में शामिल हुए। प्रदर्शन के दौरान जहां बसपा के नीले झंडे लहराए जाते रहे, वहीं कांग्रेस, भाजपा या अन्य पार्टियों के झंडे कहीं नजर नहीं आए।

इस प्रदर्शन में लाखों की संख्या में लोगों के शामिल होने का अनुमान लगाया जा रहा है। इस दौरान मंच से संतों, बसपा नेताओं व अन्य शख्सियतों मोदी सरकार को घेरते हुए मांग की कि श्री गुरु रविदास का मंदिर तुगलकाबाद में ही बनाया जाए, क्योंकि यह स्थान श्री गुरु रविदास जी से जुड़ा हुआ है। 

प्रदर्शन में शामिल होने के लिए पंजाब, हरियाणा, यूपी, दिल्ली, राजस्थान, बिहार आदि प्रदेशों से बहुजन समाज के लोग सुबह से ही रामलीला मैदान में जुटने शुरू हो गए थे, जो कि दोपहर होते-होते खचाखच भर गया। प्रदर्शन की समाप्ति पर लोग वापस अपने-अपने राज्यों की ओर रवाना हो गए। हालांकि उनमें मोदी सरकार के खिलाफ गुस्सा पहले की तरह बरकरार रहा।

उल्लेखनीय है कि 10 अगस्त को सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर यह मंदिर तोड़ दिया गया था, जिसे लेकर दलित बहुजन समाज के लोगों में भारी गुस्सा देखने को मिल रहा है। उनका आरोप है कि डीडीए केंद्र सरकार के अधीन है। ऐसे में अगर मोदी सरकार चाहती तो मंदिर को टूटने से बचाया जा सकता था।

Comments

Leave a Reply


Advertisement