India

गुरु रविदास मंदिर मामले में मोदी सरकार के प्रस्ताव से दलित समाज नाखुश


Updated On: 2019-10-19 14:17:35 गुरु रविदास मंदिर मामले में मोदी सरकार के प्रस्ताव से दलित समाज नाखुश

दिल्ली के तुगलकाबाद में श्री गुरु रविदास मंदिर तोड़े जाने को लेकर पहले से ही दलित समाज में केंद्र की मोदी सरकार के खिलाफ गुस्सा है। मंदिर पहले वाले स्थान पर बनाए जाने की मांग को लेकर आंदोलन की राह पकडऩे वाले दलित समाज में मोदी सरकार के नए प्रस्ताव को लेकर रोष देखनेे को मिल रहा है।

केंद्र सरकार की ओर से सुप्रीम कोर्ट में पेश किए गए प्रस्ताव में तुगलकाबाद में पहले वाले स्थान पर मंदिर बनाने पर सहमति दी गई है। हालांकि सरकार द्वारा इसके लिए सिर्फ 8 मरले जमीन दी जा रही है, जो कि काफी कम है। इसी को लेकर दलित समाज में रोष देखने को मिल रहा है। दलित समाज की मांग है कि गुरु रविदास मंदिर के लिए जितनी पहले जमीन थी, उसे उतनी ही वापस की जाए।

पंजाब के संत समाज की ओर से इस संबंध में सोशल मीडिया पर बयान जारी करके कहा जा रहा है कि संत समाज इस प्रस्ताव से सहमत नहीं है और इसके खिलाफ संघर्ष करेगा। दूसरी तरफ दलित समाज में भी इसे लेकर नाराजगी देखने को मिल रही है। उनका कहना है कि 8 मरले जमीन काफी कम है।

उल्लेखनीय है कि 10 अगस्त को दिल्ली के तुगलकाबाद में श्री गुरु रविदास मंदिर को डीडीए की ओर से तोड़ दिया गया था। इसके बाद पंजाब, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश, दिल्ली समेत देश के अलग-अलग हिस्सों में प्रदर्शन हुए थे। इसी को लेकर 13 अगस्त को पंजाब बंद हुआ था। वहीं, 21 अगस्त को दिल्ली में बड़ा प्रदर्शन हुआ था।

Comments

Leave a Reply


Advertisement