Health

द सन का दावा : रोजाना नहाना भी ठीक नहीं, बीमार हो सकते हैं आप


Updated On: 2016-01-27 10:32:55 द सन का दावा : रोजाना नहाना भी ठीक नहीं, बीमार हो सकते हैं आप

नई दिल्ली। मौसम गर्मी का हो या फिर सर्दी का, कई लोग रोजाना नहाने को जरूरी मानते हैं। हालांकि ब्रिटेन के अखबार द सन में छपी खबर के मुताबिक यह आदत ठीक नहीं है। रोजाना नहाने से आपकी सेहत बिगड़ सकती है।

अखबार ने एक रिसर्च के आधार पर लिखा है कि ऐसा करने से हम उस तेल को शरीर की त्वचा के साथ धो देते हैं, जो शरीर के लिए वास्तव में जरूरी है।

दरअसल, यह खबर वास्तव में पश्चिमी देशों के लिए ज्यादा मुफीद लगती है, क्योंकि वहां नहाने से पहले तेल लगाने का रिवाज नहीं है, जबकि वहां बॉडी ऑयल का कभी-कभी ही इस्तेमाल करते हैं। ऐसे में अगर वे रोज नहाएंगे तो शरीर के लिए जरूरी तेल त्वचा को नहीं मिल पाता और उन्हें त्वचा पर लाल चकत्तेदार धब्बे और दर्द रहने लगता है।

तभी नहाएं, जब जरूरत महसूस हो
ऑस्ट्रेलियन कॉलेज पर डर्मोटोलॉजी के अध्यक्ष प्रोफेसर स्टीफेन शुमैक के मुताबिक आपको तभी नहाना चाहिए, जब आपको जरूरत महसूस हो। सनडे मॉर्निंग हेराल्ड से बातचीत में उन्होंने कहा, ये सिर्फ पिछले 50-60 सालों में ऐसा बदलाव आया है कि लोग बाथरूम जाकर नहाने के आदी हो गए हैं, वरना पहले ऐसा नहीं होता था। अब हर दिन नहाना बहुत आम हो गया है। आज हर दिन नहाना अपनी इच्छा नहीं, बल्कि सामाजिक दबाव भी बन गया है।

पांच में से चार महिलाएं रोजाना नहीं नहातीं
एक सर्वे के मुताबिक पांच महिलाओं में एक चार महिलाएं हर रोज नहाने से परहेज करती हैं। एक तिहाई महिलाओं का मानना है कि वे हर तीन दिन पर नहाती हैं। इन दिनों वे परफ्यूम, क्रीम, बॉडी ऑयल और डियो आदि से खुद को ताजा रखती हैं।

अधिक नहाने से त्वचा को नहीं मिलता तैलीय पदार्थ
प्रोफेसर शुमैक ने तर्क दिया कि हमारा शरीर प्राकृतिक तौर पर एक तैलीय पदार्थ निकालता है, जो हमारी त्वचा की कोशिकाओं को सुरक्षित रखने के लिए आवश्यक होता है। अत्यधिक नहाने या धोने से त्वचा को वह तैलीय पदार्थ नहीं मिल पाता। ऐसे में त्वचा संबंधी रोग होने की संभावना बढ़ जाती है।

Comments

Leave a Reply


Advertisement